गुरुवार, 4 मार्च 2010

ताई तुझे सलाम.

आशा भोसले जिन्हें लोग प्यार से आशा ताई भी कहते हैं का मैं भी लाखों में से एक फेन रहा हूँ, पर अब मेरे मन में उनके लिए इज्ज़त कई गुना बढ चुकी है। आशा जी ने वो काम कर दिखाया है जिसे कोई आम आदमी कभी नहीं कर सकता। उन्होंने राज ठाकरे जैसे गुंडागर्दी के बल पर राजनीती करने वाले व्यक्ति को खुले आम जिस तरह से बेइज्जत किया है वो कोई आसन काम कतई नहीं है। हमारे भारतवर्ष में आप किसी आदमी की गलती का इस खुल्ले तरीके से इज़हार नहीं कर सकते वो भी एक राजनेता के गलत कार्यों का। इस तरह से आशा जी ने राज ठाकरे की गलत बातों का उसके ही मंच से उत्तर देकर जो हिम्मत दिखाई है मैं समझता हूँ की हम सभी भारतियों विशेषकर मराठी लोगों को आगे बढकर इसका स्वागत करना चाहिए और आशा जी का पुरजोर समर्थन करना चाहिए।
आशा जी आपको नमन है।
जाने क्यों ऐसी बातो पर मीडिया ज्यादा ध्यान नहीं देता। कोई पत्रकार लेख नहीं लिखता । टी वी चैनलों पर कोई बहस नहीं होती। क्यों??????

1 टिप्पणी:

  1. शांतमना व्यक्तियों के वक्तव्यों की ताकत शांत मन वाले ही जानते हैं। वर्तमान का मीडिया जगत जितना अशांत हैं उतना कोई और संस्थान नहीं दिखता। उस समय का इंतज़ार है जब मीडिया में धैर्य , संयम, सदाचारिता जैसे गुण विकसित होंगे। तब तक करो इंतज़ार मित्र ...

    उत्तर देंहटाएं