बुधवार, 16 मई 2012

आओ मित्रों परिकल्पना सम्मान-2011 का बहिष्कार करें

ब्लॉग जगत के प्रिय बंधुओ प्रणाम,
बहुत दिनों बाद अपने ब्लॉगर पर लॉग इन किया तो पाया की इनकी तो सूरते हाल ही बदल गयी है. अपने ब्लॉग पर लिख पाना भी भारी हो रहा है अतः जी मेल की सहायता लेकर इस पोस्ट को लिख रहा हूँ.
खैर संक्षेप में जो कहना चाहता हूँ वह कह रहा हूँ क्योंकि मुझे खुशफहमी है की बहुत से लोग मेरी बात पर ध्यान देंगे.
आदरणीय रचना जी ने अपने नारी ब्लॉग पर परिकल्पना नामित ब्लॉग की एक पोस्ट का लिंक दिया है. इस पोस्ट में कुछ ब्लोग्गेर्स व ब्लोग्स की एक सूची दी गयी है जिसमे से किसी एक का इस दशक के ब्लॉगर व ब्लॉग के रूप में चुनाव किया जाना है. मैंने इस सूची का निरपेक्ष भाव से अध्ययन किया. मुझे बड़ा अफ़सोस है की "दशक के ब्लॉगर" के पुरस्कार के लिए नामांकित सज्जनों/सज्जनियों की सूची को पढ़कर बहुत निराशा हुई है. इस सूची को बनाने वालों ने ना तो सेकुलरिस्म का ध्यान रखा है और ना ही दलित व पिछड़ी जातियों को कोई प्रतिनिधित्व दिया है . पूरी सूची में सभी नामांकित ब्लोग्गेर्स हिन्दू हैं और केवल अगड़ी जातियों से सम्बन्ध रखते हैं.इसमें sc, st, obc और मुस्लिमों के लिए कोई स्थान नहीं है . यह बड़ी शर्म की बात है. मेरी नज़र में यह सूची देश विरोधी है, समाज विरोधी है.
इसलिए मैं इन पुरष्कारों का बहिष्कार करता हूँ और ब्लॉग जगत के अपने मित्रों को छोड़कर बाकी सभी से अपील करता हूँ की इस मुहीम में मेरा साथ दें.
 
धन्यवाद व शुभ रात्रि।
 
 

27 टिप्‍पणियां:

  1. "इसलिए मैं इन पुरष्कारों का बहिष्कार करता हूँ और ब्लॉग जगत के अपने मित्रों को छोड़कर बाकी सभी से अपील करता हूँ की इस मुहीम में मेरा साथ दें."

    हा हा हा ... वाह महाराज वाह ... बड़े दिनो मे आए पर पूरे दम से आए ! स्वागत है वापसी पर !

    उत्तर देंहटाएं
  2. लगभग साल भर बाद वापसी हुई आपकी ... कहाँ रहे महाराज !?

    उत्तर देंहटाएं
  3. अरे बंधू, किलियर करो कि हम दोस्तों में शामिल हैं कि कट गए? तभी न फैसला करेंगे कि मुहीम में साथ हैं कि नहीं!!

    वैलकम बैक:)

    उत्तर देंहटाएं
  4. पोस्ट कंटेंट पर कोई टिप्पणी नहीं !

    प्रिय दीप जी ,
    आपकी वापसी का स्वागत है ! एक दो बार सोचा कि आपको मेल करके हाल चाल पूछूं फिर लगा कि शुभकामनाओं का जबाब देने में जो बंदा आलस्य करे उससे हाल चाल क्यों पूछा जाये :)

    ब्लाग लेखन से गैरहाजिरी के बावजूद आप पाठक बतौर परिदृश्य में मौजूद रहे ये बात भी कम उल्लेखनीय है क्या ?

    शुभकामनाओं सहित !

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. अली साहब आपकी शिकायत वाजिब है. असल में मेरी कमी ये हैं की जहाँ या जिस से मैं बहुत कुछ कहना चाहता हूँ वहां पर मेरी जुबान/लेखनी चुप रहती हैं और बेवजह की बातों पर चल जाती है जैसे ऊपर की पोस्ट.

      अभी अभी एक आलसी की पोस्ट पढ़ी. वहां बहुत कुछ कहना चाहता था पर कुछ नहीं कह पाया. मुझे लगता है की ये पूर्वजन्म के कुछ बुरे कर्मों का प्रताप है की अच्छे मित्रों/मार्गदर्शकों को सम्हाल नहीं पाता. क्या करूँ.

      हटाएं
  5. कभी-कभी हिट कराने का साधन भी बनता है बहिष्‍कार.

    उत्तर देंहटाएं
  6. आखिर आन्दोलित हो ही गए?

    उत्तर देंहटाएं
  7. aap aayae shukriyaa

    waese naari blog par kab maene kab link diyaa ?? bahut khoja nahin milaa :)

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. रचना जी, मुझे लिंक आपके दुसरे ब्लॉग "रचना का ब्लॉग" से मिला था. आशा करता हूँ की मेरा ये अपराध bailable है.

      हटाएं
  8. हा हा हा..
    वैसे, सरकारी बैकलॉग जैसा कानून लागू किया जाए तो चूंकि अब तक इस तरह के उम्मीदवारों को आरक्षण के मुताबिक पुरस्कार नहीं मिले हैं, अतः पूरा का पूरा ईनाम इन्ही कैटेगरी में दिया जाना चाहिए.

    उत्तर देंहटाएं
  9. सचमुच बिना आरक्षण के ये सूची संविधान की एक अनुसूची का उल्लंघन भी तो कर रही है ...और सभी सवर्ण ? जरुर कहीं कोई घपला है :(

    उत्तर देंहटाएं
  10. हा-हा-हा

    बहुत दिन बाद दर्शन दिये प्रभु

    उत्तर देंहटाएं
  11. हम आपके साथ हैं .
    अब यह आप पर निर्भर करता है , आप हमें अपना ब्लॉग मित्र समझते हैं या बाकि सभी . :)

    उत्तर देंहटाएं
  12. मैं आपका साथ देने से पहले यह अनुरोध करता हूँ कि

    मुस्लिम, दलित, पिछड़े, और अति पिछड़े वर्ग के ब्लोगर्स की सभी सूचियाँ उपलब्ध करायी जाएँ.

    जब कोई ब्लोगर इस काबिल है कि समय निकालकर ब्लॉग लिख रहा है तब वह पिछड़ा कैसे मना जाये?

    दलित ब्लोगरों की सूची जरूर मुझे भेजिएगा.... उनके भले के लिये मेरे पास अलग से एक योजना है.

    मुस्लिम ब्लोगरों के उद्धार और पुरस्कारों की व्यवस्था बाहरी ताकतों ने पहले से ही अपने हाथों में ले रखी है?

    परिकल्पना-ब्लॉग सम्मान में महिलाओं की भागीदारी पर आपने कोई आपत्ति नहीं उठायी? भई क्यों, प्रतीशत बढ़ाने की बात ही कह देंते.

    उत्तर देंहटाएं
  13. achchha yhan bhi vahi chalraha hai jo ...desh me chal raha hai ...jai ho bharat mahan ki ...likhne me bhi jatiwad ..??????????

    उत्तर देंहटाएं
  14. मौके पर धमाके दार उपश्थिति दर्ज कराई है आपने। फिर भी शिकायत तो बनी रहेगी..विचार शून्य को इतना विचारों में नहीं खो जाना चाहिए कि वह एक एक साल के लिए गायब हो जाय।:)

    उत्तर देंहटाएं
  15. वाह पोस्‍ट भी ब्‍लॉग के नाम से मेल खाती है ☺☺☺

    उत्तर देंहटाएं
  16. vichar ganga men kagaz ki naav ki tarah apni baat baha dena bhi ek pooja hai ...yadi pooja ka fal milta hai to aapko bhi milega.

    उत्तर देंहटाएं
  17. I was looking for this from a long time and now have found this. I also run a webpage and you to review it. This is:- http://consumerfighter.com/

    उत्तर देंहटाएं
  18. चलिये..अब कुछ नया मुद्दा देखें..ये तो हो हुआ गया! :)

    उत्तर देंहटाएं