सोमवार, 6 दिसंबर 2010

ब्लॉगर पंच लक्षणं


स्वान निद्रा






कपोत ध्यानं


पोस्ट पढ़ता ,
टिप्पणीकर्ता,
चिट्ठाजगत अवतारी
हिंदी  ब्लॉगर पंच लक्षणं.


26 टिप्‍पणियां:

  1. लागू करेंगे जी ब्लॉग जीवन में.........
    शुरवात आपसे :)

    बढिया ........दिलचस्प...

    उत्तर देंहटाएं
  2. छिद्रान्वेषी टिप्पणीकर्ताओं को एक ब्लागर स्कूटी के चक्के के नीचे भी दिख रहा है :)

    उत्तर देंहटाएं
  3. लागू करेंगे जी ब्लॉग जीवन में.........

    उत्तर देंहटाएं
  4. छिद्रान्वेषी टिप्पणीकर्ताओं को एक ब्लागर स्कूटी के चक्के के नीचे भी दिख रहा है :)
    ......... इस पोस्ट पर मेरा असली कमेन्ट तो अगला वाला है

    उत्तर देंहटाएं
  5. एक गाना हो जाये

    अँधेरी रातों में...सुनसान राहों पर...एक मसीहा निकलता है...जिसे लोग शहंशाह कहते हैं

    राहों = ब्लोग्स
    मसीहा = कमेन्ट देने वाला
    शहंशाह = समर्पित ब्लोगर

    अरे हाँ , मैं तो पूछना ही भूल गया .....ये ब्लोगर हैं कहाँ के , लोकेशन तो पता चले इनकी :)

    उत्तर देंहटाएं
  6. छिद्रान्वेषी टिप्पणीकर्ता ध्यान दें, स्कूटर के नीचे वाला गहरी नींद में सोया एक आम प्राणी ही है. ब्लॉगर तो वही हो सकता है जिसे ये लगे कि उसने ही आसमान को थामा हुआ है वर्ना ये कभी भी भरभरा के गिर जायेगा और ध्यान दें ब्लॉगर कैसे अपनी आबरू ढांके रहते हैं. तिनके कि ओट में...... :)

    उत्तर देंहटाएं
  7. मतलब ये कि वो दोनों नार्मल और ये बड़का ब्ला... :)

    एक बात जो कहना भूल गए कि कबूतर जो एक टांग पर अँखियाँ फेरे खडा है वो भी निचले वालों पर चिंतन कर रहा है शायद :)

    और आपकी पोस्ट के टाइटल में से 'पंच'का मतलब हम '५' नहीं समझ रहे हैं ये 'वो वाला पंच' हैं ना ? :)

    उत्तर देंहटाएं
  8. अली साहब आपने सारी बातें खुलवा ही दीं. ये कपोत नहीं पंचम दा के पलट दास हैं. इस कबूतर का बिलकुल असली बलुगा भगत रूप अगली पोस्ट में प्रस्तुत करूँगा. और ये "पंच" " बसंत पंच मी" वाला पंच ही है :)

    उत्तर देंहटाएं
  9. अच्छा है कई लोगों को बॉक्सिंग का पंच नहीं लगा!!

    उत्तर देंहटाएं

  10. बेहतरीन पोस्ट लेखन के बधाई !

    आशा है कि अपने सार्थक लेखन से,आप इसी तरह, ब्लाग जगत को समृद्ध करेंगे।

    आपकी पोस्ट की चर्चा ब्लाग4वार्ता पर है-पधारें

    उत्तर देंहटाएं
  11. शुभ प्रभात विचार शून्य जी ,
    लो सुबह सुबह एक टिप्पणी , तुम भी क्या याद रखोगे और यह पोस्ट भी ! यह लछ्छन ठीक नज़र नहीं आ रहे :-))

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत सस्पेंस बना दिया यार, अगली पोस्ट तक धक धक होती रहेगी हम जैसे कईयों को। लेकिन उम्मीद है, इंडिया टी.वी. के पदचिन्हों पर नहीं चलोगे, ’पंच’ का खुलासा कर ही डालोगे।
    चिट्ठाजगत शायद रूठ गया है, लक्षण बदलना चाहो तो बदल सकते हो:)

    उत्तर देंहटाएं
  13. विचार शून्‍य जी
    शून्‍य के आगे लगाओ
    शून्‍य के अतिरिक्‍त एक
    दस नंबरी हो जाए

    कारनामे तो आपके
    अब दस नंबरी ही हैं

    उत्तर देंहटाएं
  14. .
    .
    .
    @ मित्र गौरव,

    सही पकड़ा...
    स्कूटी के नीचे वाला ही असली ब्लॉगर है...

    वो गीली-गीली जमीन देखो...
    उसी की करामात है...

    यह साफ-साफ सीमेंट के फर्श पर भी फूल उगाने का प्रयास है!
    ... ;)

    उत्तर देंहटाएं
  15. khud ko sote hue maine pahle baar dekha hai khud hi.....kyaa mudraa hai meri.....vaah.....vaah.... are kyaa naam thaa mera.....???

    उत्तर देंहटाएं
  16. चलो यह लक्षण भी सही हैं ...धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  17. @ब्लॉगर तो वही हो सकता है जिसे ये लगे कि उसने ही आसमान को थामा हुआ है

    @यह साफ-साफ सीमेंट के फर्श पर भी फूल उगाने का प्रयास है!

    मित्र प्रवीण , पाण्डेय जी

    अब मुझे फिर से विज्ञापन याद आ रहा है [थोड़ा सा बदलाव किया है]

    मान गए !

    किसे ?

    आपके पार की नजर और vichaar sifar दोनों को


    [Sifar is an Urdu and Hindi word meaning "zero"]

    उत्तर देंहटाएं
  18. हिंदी ब्लॉगर पंच = हिन्दी ब्लॉग का सरपंच?

    उत्तर देंहटाएं
  19. मानना पड़ेगा भाई आपको क्या बात है

    उत्तर देंहटाएं